ट्रेंडिंग

Zerodha के संस्थापक नितिन कामथ और निखिल कामथ ने 100 करोड़ रुपये वेतन कमाकर सुर्खियां बटोरीं

वेतन के रूप में 100 करोड़ मिलने की कल्पना करें! वह भी कोविड काल में। हम जेफ बेजोस या एलोन मस्क की बात नहीं कर रहे हैं, बल्कि भारतीय स्टार्ट-अप परिदृश्य के दो युवाओं की बात कर रहे हैं। अरबपतियों में फिनटेक स्टार्टअप ‘ज़ेरोधा’ के संस्थापक नितिन कामथ और निखिल कामथ और नितिन की पत्नी सीमा पाटिल हैं, जो स्टार्टअप की पूर्णकालिक निदेशक हैं।
कामथ बंधुओं ने अगस्त 2010 में बेंगलुरु में ज़ेरोधा की स्थापना की। यह एक वित्तीय सेवा कंपनी है जो म्यूचुअल फंड, खुदरा-संस्थागत ब्रोकरेज, मुद्रा-वस्तु व्यापार और बोंड की पेशकश करती है।
Entrackr के अनुसार, नितिन और निखिल सबसे अधिक भुगतान पाने वाले भारतीय स्टार्टअप संस्थापक हैं। ज़ेरोधा बोर्ड ने एक विशेष प्रस्ताव पारित किया जो निखिल, नितिन और सीमा को प्रति वर्ष 100 करोड़ रुपये तक का भुगतान करता है। तीनों को मूल वेतन 4.17 करोड़ रुपये प्रतिमाह और 100 करोड़ रुपये सालाना तक मिलेगा।
Entrackr के अनुसार, वित्तीय वर्ष 2020 में ज़ेरोधा को 1,000 करोड़ रुपये का राजस्व और 442 करोड़ रुपये का लाभ हुआ था। वित्तीय वर्ष 2019 में यह 950 करोड़ रुपये से बढ़कर 2020 में 1,093.64 करोड़ हुआ । इसके राजस्व में 15% की वृद्धि हुई। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के आंकड़ों के अनुसार, ज़ेरोधा 3.14 मिलियन से अधिक ग्राहकों के साथ भारत की सबसे बड़ी इक्विटी ब्रोकरेज फर्म है। कामथ ब्रदर्स एंड सीमा ‘रेनमैटर फाउंडेशन’ का नेतृत्व करते हैं, जो जलवायु परिवर्तन के मुद्दों पर काम करने वाले व्यक्तियों और संगठनों का समर्थन करता है। संस्था के पास 100 मिलियन डॉलर की फंडिंग है।
2020 में सबसे अधिक भुगतान पाने वाले भारतीय स्टार्टअप संस्थापक ‘कारट्रेड’ के विनय सांघी, ‘ज़ोमैटो’ के दीपिंदर गोयल, ‘पेटीएम’ के विजय शेखर शर्मा, ‘ड्रीम 11’ के हर्ष जैन और ‘इनक्रेड’ के भूपिंदर सिंह थे। उन्होंने वित्तीय वर्ष 2020 में 3 करोड़ रुपये से 6 करोड़ रुपये तक का वेतन अर्जित किया। ये आंकड़े बताते हैं कि महामारी द्वारा लाया गया संकट कम से कम कुछ के लिए विकास का अवसर बन गया है। यह दिखाता है कि वास्तविक उद्यमी कैसे संकटों का फायदा उठाते हैं।

Leave a Reply

Back to top button