ट्रेंडिंग

भारतीय बायोटेक उद्योग में कृष्णा इल्ला की प्रेरणादायक यात्रा

पूरा भारत कृष्णा  इल्ला की बात कर रहा है। तमिलनाडु में किसानों के परिवार मे बढे , युवा इल्ला खेती करना चाहते थे , लेकिन उनके पिता ने इसकी अनुमति नहीं दी। मेहनती युवक को जर्मनी की एक दवा कंपनी में नौकरी मिल गई। बाद में, उन्हें अमेरिका में अध्ययन करने के लिए फेलोशिप मिली। विस्कॉन्सिन-मैडिसन विश्वविद्यालय से पीएचडी प्राप्त करने के बाद, उन्होंने दक्षिण कैरोलिना मेडिकल विश्वविद्यालय में एक फॅकल्टी सदस्य के रूप में काम किया। लेकिन, उन्हें यकीन था कि उनका कार्यक्षेत्र कोई विदेशी देश नहीं था। 1996 में, वह अपनी पत्नी सुचित्रा के साथ भारत लौट आए। इस निर्णय ने लाखों भारतीयों के जीवन को बदल दिया। क्योंकि, इस दंपति ने देश की सबसे प्रतिष्ठित वैक्सीन निर्माता, भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड की शुरुआत 12.5 करोड़ रुपये में की थी।

अब तक, भारत बायोटेक, जिसकी कीमत 500 करोड़ रुपये है,  150 से अधिक विकासशील देशों में गरीबों का टीकाकरण किया है। रोटावायरस के कारण होने वाले डायरिया-संबंधी संक्रमण के लिए दवाओं को विकसित करके इल्ला ने बायोटेक उद्योग में अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज कराई। उनके नेतृत्व में, भारत बायोटेक ने मनुष्यों को रोटावायरस से बचाने के लिए एक लागत प्रभावी टीका ‘रोटोवैक’ सफलतापूर्वक विकसित किया। कृष्णा ईला कहते है , ‘कोवाक्सिन’ के लिए भारत के चिकित्सा नवाचार परिदृश्य में   मान्यता प्राप्त होना एक बडी सफलता है ।

Leave a Reply

Back to top button