उद्यमी

Blessing palms की प्रकृतिदत्त स्ट्रॉ

बायो-डिग्रेडेबल उत्पाद इन दिनों लोकप्रियता हासिल कर रहे हैं क्योंकि दुनिया भर में अधिकांश प्लास्टिक उत्पादों पर प्रतिबंध है।भारतीय स्टार्टअप Blessing Palms प्राइवेट लिमिटेड द्वारा शुरू की गई प्लास्टिक स्ट्रॉ का एक विकल्प,इस अवसर पर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।  कृषि-अपशिष्ट को उपयोगी पर्यावरण-अनुकूल उत्पादों में परिवर्तित करना उनका लक्ष्य था, जिसके परिणामस्वरूप नारियल के पत्तों से स्ट्रॉ का उत्पादन हुआ।
फफूँदी की वृद्धि को रोकने के लिए भाप के माध्यम से नारियल के पत्तों को संसाधित करने के बाद स्ट्रॉ बनाया जाता है।
Blessing Palms के सीईओ Saji Varghese. के अनुसार, इन प्राकृतिक स्ट्रॉ को हर तरह के तरल में 6 घंटो तक रखा जा सकता है।ग्रामीण क्षेत्रों में, कंपनी महिलाओं को रोजगार प्रदान करने के लिए उन्हें  प्रशिक्षण प्रदान करती है।कंपनी स्वचालित प्रौद्योगिकी का  उपयोग कर उत्पादन बढ़ाने के बजाय महिलाओं को रोजगार प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित करती है।Saji Varghese. ने कहा कि पिछले साल , Blessing Palms को 10 मिलियन स्ट्रॉ के ऑर्डर मिले हैं।वह कहते हैं कि कंपनी की दक्षिण भारत के 22 अन्य स्थानों पर अपनी गतिविधियों को बढ़ाने की योजना है।

Leave a Reply

Back to top button