उद्यमी

दृढ़ संकल्प के आगे शारीरिक कमियाँ कुछ नहीं -राधाम्बिका Founder of Sivavasu

अपनी  कमज़ोरी को अपनी बलहीनता  ना समझकर उसे पराजित करके अपने सपनों को साकार करने वाली एक दृढ़ संकल्पित महिला हैं  -राधाम्बिका । बचपन में अपने पैरों से कमज़ोर हुई एक लड़की ,बड़ी होकर वो कैसे जियेगी ये सोच कर चिंतित थे  माता -पिता ।लेकिन दृढ़निश्चय और किसी का सहारा ना लेने का आत्म संकल्प लेने वाली राधाम्बिका ने  भारत के अंतरिक्ष परियोजना में  अपनी एक छाप छोड़कर खुद को बुलंदियों की सीमा तक पहुँचाया। ISRO  के   अंतरिक्ष मिशन  में इलेक्ट्रॉनिक्स असेंबलिंग, कार्ड वायरिंग, बोर्ड इंटीग्रेशन आदि को एकीकृत करने के लिए SIVAVASU कंपनी के मालिक और चेयरपर्सन राधाम्बिका हैं।

किसी की दया के बिना मैं खुद अपने पैरों पर खड़ा होना चाहती थी और उसी समय मुझे vocation rehabilitation center  में एक साल के प्रशिक्षण का अवसर मिला   ।अपना पेट भरने के लिए खुद पैसे कमा सकूँ  यही था मेरा लक्ष्य ।लेकिन यह सिर्फ मेरी इच्छा शक्ति हीं थी जिसने मुझे कठिन कार्य  करने को प्रेरित किया ,मेरा यह मानना था की मैं कुछ भी कर सकती हूँ- ऐसा कहना है राधाम्बिका का ।
1983  में खुद की तरह अपाहिज महिलाओं को अपने साथ लेकर राधाम्बिका ने SIVAVASU  की नीव रखीं ।अन्य नए कंपनियों  के आने से पहले  हीं ASLV  के समय से हीं SIVAVASU   इलेक्ट्रॉनिक असेम्बलिंग के लिए ISRO का एक अभिन्न हिस्सा बन गया ।ASLV ,PSLV ,GSLV   मिशनों  में  राधाम्बिका कि  TEAM  ISRO  के लिए काम कर रही हैं ।बधिर और बेज़बान लड़कियाँ SIVAVASU  में इलेक्ट्रॉनिक हार्ड वेयर एकत्रित  करके अंतरिक्ष उत्पदो   का निर्माण  काफी सूक्ष्मता और सटीक रूप से करती हैं ।केंद्र सरकार के अंतर्गत vocation rehabilitation center for  handicapped  के ज़रिये लड़कियों का चयन करके उन्हे प्रशिक्षण देकर सूक्ष्मता और सटीक  रूप से अंतरिक्ष   परियोजना में अपना सहयोग देने के लिए राधाम्बिका उन्हें तैयार  करती हैं ।पिछले 37  सालों से ISRO  के निर्धारित गुणवत्ता को बनाये रखते हुए राधाम्बिका  इस आर्गेनाइजेशन को आगे बढ़ा रहीं हैं ।इस दौरान उन्हें दिव्यांगजन सशक्तिकरण का राष्ट्रीय पुरस्कार और बेस्ट इंस्टीटूशन का स्टेट अवार्ड भी प्राप्त हुआ।एक व्यवसाय की सफलता उसे सितारों के उस पार ले जाना हीं नहीं बल्कि 750  अपाहिज लड़कियों के जीवन को सितारों की तरह चमका दिया हैं राधाम्बिका ने ।असामान्य मनोधैर्य और दृढ़ संकल्प के आगे शारीरिक कमियाँ कुछ भी नहीं हैं ये  हमें अपने जीवन से सिखाती हैं राधाम्बिका एक सफल व्यवसायी  ।

Leave a Reply

Back to top button