ट्रेंडिंग

लॉकडाउन के बीच पार्ले जी बिस्किट की रिकॉर्ड तोड बिक्रीu

कल्पना कीजिये की सुबह सूबह आप गर्म चाय के कप में बिस्किट डुबो रहे हैं। जैसे ही आप बिस्किट का स्वाद लेने जाते हैं,वह वापस कप में गिर जाता है। यह हर भारतीय के लिए बचपन की एक स्मृति हो सकती है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि ‘बिस्किट’ शब्द के उल्लेख से ही पारले-जी और ब्रिटानिया हमारे दिमाग में आ जाते हैं। ब्रिटानिया की तुलना में ,जो आकार में गोल है, पारले जी का आयताकार आकार खाने के लिए आसान रहा । पारले-जी ब्रांड, जिसे आमतौर पर ‘गरीबों के खाद्य’ के रूप में जाना जाता है और ज़िसकी 82 साल की विरासत है, कोरोना और लॉकडाउन के दौरान सबसे अच्छा विक्रेता बन गया। अधिकांश भारतीय, विशेष रूप से प्रवासी मजदूर जो घर लौट आए थे, पार्ले-जी के आर्थिक 5-रुपये के पैकेट पर निर्भर थे। पारले-जी श्रेणी के प्रमुख मयांक शाह का कहना है कि पिछले 82 वर्षों में, कंपनी ने लॉकडाउन के दौरान सबसे अच्छी बिक्री का अनुभव किया।

लॉकडाउन का दौर सभी बिस्किट कंपनियों के लिए अच्छा समय रहा। हालांकि, पारले-जी का 5 रुपये वाला पैकेट इस सूची में सबसे ऊपर रहा । जब सरकार ने मार्च के अंतिम सप्ताह में लॉकडाउन की घोषणा की, तो पार्ले-जी के 5 रुपये के पैकेट की मांग काफी बढ़ गई। सरकारी विभागों और गैर सरकारी संगठनों ने शिविरों में इन छोटे पैकेटों की आपूर्ति को प्राथमिकता दी। लॉकडाउन से पहले, Parle-G भारत में 130 कारखानों से 40 Bn बिस्कुट का उत्पादन करता था, जो एक बिस्कुट ब्रांड के लिए एक बहुत बड़ा आंकड़ा है। पारले-जी के बारे में एक चूटकुला भी है जो इस तरह से है: “यदि आप हर साल उत्पादित होने वाले पार्ले-जी बिस्कुट को एक-एक करके इसकी रेखा बनाते हैं, तो यह रेखा 192 बार पृथ्वी का चक्कर लगाती है!”

पारले-जी प्रति किलोग्राम 77 रुपये लेता है, जो रस्क के लिए 100 रुपये प्रति किलोग्राम से कम है। Parle-G इस इकोनॉमी सेगमेंट में भी प्रयोग कर रहा है। भारत में बिस्किट बाजार प्रति वर्ष 37,000 करोड़ रुपये के करीब पहुंचता है। पारले-जी किफायती मूल्य श्रेणी के बाजार का एक तिहाई हिस्सा नियंत्रित करता है .. पारले-जी इस धारणा को साबित करता है कि बदलते समय के साथ प्रासंगिक रहने पर एक ब्रांड उपभोक्ताओं का पसंदीदा बन जाता है।

thump:

लॉंकडाउन का परीणाम :पार्ले जी की सर्वाधिक बिक्री

वीडियो पाठ:

पार्ले-जी हुआ 82 साल का

 

Leave a Reply

Back to top button
Close