ट्रेंडिंग

सिर्फ हफ्तों में फ्रीज हो जायेंगे  70% स्टार्टअप – नासकॉम सर्वेक्षण

कोई राजस्व नहीं है। संचालन और आपूर्ति श्रृंखला ध्वस्त हो गई है। निवेशक पैसा खर्च करने में सावधानी बरत रहे  हैं। नैसकॉम के एक सर्वेक्षण के अनुसार, कुछ हफ्तों के भीतर 70% भारतीय स्टार्टअप फ्रीज हो जाएंगे। कंज्यूमर सेगमेंट में शुरुआती और मिड-स्टेज बिजनेस सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। देश भर के स्टार्टअप्स में शामिल सर्वेक्षण में पाया गया कि 40% स्टार्टअप्स ने अपने परिचालन को आंशिक या पूर्ण रूप से रोक दिया है। शेष प्रतिशत में केवल कुछ हफ्तों तक बचे रहेने के लिए कुछ नकद आरक्षित है।

कोरोना एक बुरे शगुन के रूप में दिखाई दिया जब भारतीय स्टार्टअप परिदृश्य सफलता की सीढ़ी चढ़ रहा था। COVID-19 और उसके बाद के लॉकडाउन का प्रभाव स्पष्ट है जब हमें पता चलता है कि बी 2 बी स्टार्टअप के 60% बंद होने के कगार पर हैं। इस परीक्षण समय को कैसे पार करें? क्या व्यापार पुनर्जीवित करने का एकमात्र विकल्प है?

 

नैसकॉम के अध्यक्ष देबजानी घोष का कहना है कि भारतीय स्टार्टअप आंदोलन केवल हितधारकों, केंद्र और राज्य सरकारों, पारिस्थितिकी तंत्र के समर्थकों और निवेशकों के तत्काल हस्तक्षेप से आगे बढ़ेगा। स्टार्ट-अप्स के लिए आपातकालीन सहायता जिसमें कार्यशील पूंजी पहुंच, फंडिंग समर्थन और कंपनी के मामलों में रियायतें सुनिश्चित की जानी चाहिए।

 

यात्रा और पर्यटन क्षेत्रो  में 70 फीसदी स्टार्टअप का कारोबार घटकर आधा रह गया है। लगभग 50 फीसदी फिनटेक और लॉजिस्टिक स्टार्टअप्स भी राजस्व घाटे से गुजर रहे हैं। हालांकि, एडटेक स्टार्टअप्स इस कठिन मौसम में भी बना रहा   । भारत में 9300 के करीब प्रौद्योगिकी स्टार्टअप हैं जो 4 लाख रोजगार सृजित करते हैं। यदि उन्होंने पिछले वित्त वर्ष में 15 प्रतिशत की वृद्धि दिखाई, तो अब वे बचे रहने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

Leave a Reply

Back to top button